ऑनलाइन दुकानों के सामने परम्परागत दुकानें कब तक टिकी रह पाएंगी?

ऑनलाइन दुकानों के सामने परम्परागत दुकानें कब तक टिकी रह पाएंगी?

पारपंरिक रीटेलर बने तो रहेंगे लेकिन उनके हाथों में सिर्फ चिल्हर होगा बाकी बड़ी राशियाँ ऑनलाइन मार्केट के हिस्से में आएंगी। Continue reading ऑनलाइन दुकानों के सामने परम्परागत दुकानें कब तक टिकी रह पाएंगी?