समय निकालकर घूम आइए ‘आदिवासी-मेला’

समय निकालकर घूम आइए ‘आदिवासी-मेला’

मेला भारतीय संस्कृति के मेलजोल का सबसे बड़ा केन्द्र रहा है.मेले में घूम-फिर लेने भर से तरह-तरह की चीज़ों और लोगों से हमारा परिचय हो जाता है.ऐसे में संस्कृति की अकूत सम्पदा लिए हुए आदिवासियों के मेले में जाने का मौका मिले तो चूकना नहीं चाहिए.अगर आपके पास समय हो तो घूम आइए ओड़िशा. Continue reading समय निकालकर घूम आइए ‘आदिवासी-मेला’

‘किन्नर मेघा’ की शादी इस सदी की सबसे बड़ी घटना मानी जानी चाहिए

‘किन्नर मेघा’ की शादी इस सदी की सबसे बड़ी घटना मानी जानी चाहिए

एक ओर जहाँ लोग किन्नरों को हिकारत की निग़ाह से देखते हैं या उनके साथ दोयम दर्जे का सलूक किया जाता है ऐसे में एक ख़बर आई है जो बदलती भारतीय मानसिकता की बानगी पेश कर रही है. Continue reading ‘किन्नर मेघा’ की शादी इस सदी की सबसे बड़ी घटना मानी जानी चाहिए

गाँव की हवा ने बुलाया, बंदा यूएस छोड़ ओड़िशा आया

गाँव की हवा ने बुलाया, बंदा यूएस छोड़ ओड़िशा आया

आठ साल लगातार अलग-अलग देशों में मल्टीनेशनल कंपनियों के साथ काम करने के बाद वे लौट आए थे, लेकिन फिर दो साल के लिए चले गए. इसके बाद उन्होंने खुद को पूरी तरह गांव की सेवा के लिए समर्पित कर दिया. अब वे गांव के लोगों के लिए नई मिसाल बनकर उभरे हैं. Continue reading गाँव की हवा ने बुलाया, बंदा यूएस छोड़ ओड़िशा आया

छत्तीसगढ़ और ओड़िशा में यूरेनियम की खोज

छत्तीसगढ़ और ओड़िशा में यूरेनियम की खोज

छत्तीसगढ़ और ओड़िसा राज्य आज भी अबूझ पहेली की तरह है जिसके बारे में लोगों को कुछ ज्यादा जानकारी नहीं होती. Continue reading छत्तीसगढ़ और ओड़िशा में यूरेनियम की खोज