किसी भगवान ने नहीं, बल्कि असम के इस इंसान ने बनाया है जंगल

एक अद्भुत ‘फॉरेस्ट मेन’ की असल कहानी बता रहे हैं विशाल शुक्ला

jadav

बचपन में चचा से एक कहानी सुनी थी, आपने भी सुनी ही होगी, कि एक 80 साल का बूढा जब पेड़ लगा रहा था तो पोते ने कौतूहलवश पूछा कि -” दादाजी आप पेड़ क्यों लगा रहे हो, आप तो पेड़ के फल आने तक शायद जिन्दा ना रहें?

….ताकि तुम उनका स्वाद ले सको, दादाजी ने कहा.

jadav-4

इसी कहानी को जादव पायेंग ने भी सुना और न सिर्फ सुना बल्कि जीभर जिया भी.

जी हाँ, 35 वर्षों  में 8160 बीघा क्षेत्रफल मे अकेले एक खूबसूरत जंगल की सौगात दी. इस जंगल का मतलब हम शहरियों के लिए भले ही  वीकएंड भर मनाना या एक ‘नास्टेल्जिया स्पॉट’ से ज्यादा ना हो पर जादव के लिए असम के जोरहाट क़े इस जंगल का जर्रा जर्रा सांस है, आत्मा है. एक-एक पेड़ को वह अपने बेटे-बेटी जैसा मानते हैं.

वीडियो के लिए यहाँ क्लिक करें

 

हमारे-आप के लिए भले ही जादव के इन 35 वर्षों की यात्रा का हासिल, जो सोलह बरस के लड़कपन में शुरू हुई थी, उन्हें मिला ‘पद्मश्री’ हो, पर उनके लिए तो हरेक पेड़ ही उनकी सांस है, जीवन है.

jadav-3

शायद ऐसी ही शख्सियत के लिए जिगर मुरादाबादी ने क्या खूब कहा है-

जो  तूफानों में पलते जा रहे हैं.

वही दुनिया बदलते जा रहे हैं.

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s