अमेरिकन फिल्म जगत में स्टार है बिहार का ‘विवेक’

शिकागो में स्वामी विवेकानंद ने अपनी काबिलियत का परिचय दिया था और आज उस परम्परा को विवेक प्रभाकर शरण जैसे युवा कलाकार  बरकरार रख रहे हैं. प्रभाकर शरण, नाम तो सुना ही नहीं होगा क्योंकि यह नाम कोई खान और कपूर नहीं बल्कि अमेरिकन स्टार की है पर हैरान करने वाली बात यह है कि प्रभाकर बिहारवासी है. हिंदी सिनेमा में जगह ना मिलने के कारण अमेरिका में बस गए लेकिन आज भी भोजपुरी और हिंदी इनके एक्टिंग की तरह ही रग-रग में भरा पड़ा है. इनके संघर्ष की कहानी बीबीसी और अन्य मीडिया पर छाई हैं. हर किसी की नजर इनके बॉडी के बनावट पर पड़ी कलम बस संघर्ष को ही लिख पाए. लेकिन तनाव और संघर्ष के बीच खुद को बॉडी-बिल्डर और मस्त-मूड रखने वाले भारत के पहले अमेरिकन स्टार प्रभाकर शरण से हुई बातचीत की झलक, युवा पत्रकार रवि कुमार गुप्ता के साथ. तो आइए जानते हैं इनके कुछ छिपे रह्स्य-

enredados-5292edit

सर, आपके आने वाली फिल्म- इनरेदादोस:ला कंफ्यूजन (स्पैनिश नाम) के लिए  बहुत-बहुत बधाई. आप अपने परिवार के  बारे में हमें बताएं, क्योंकि सफलता में परिवार का सहयोग सर्वोपरि होता है-

प्रभाकर- मेरे पिताजी प्रभुनाथ शरण जो कि बैंक कर्मचारी रह चुके हैं और मां शाखा प्रबंधक रह चुकी हैं. मेरा भाई दिल्ली उच्च न्यायालय में वकिल हैं. और मैं अमेरिका में फूड चेन के लिए काम कर रहा हूं. फिल्मों की खरीद- बिक्री और आदि काम कर के खुद को जिन्दा रखा. परिवार ने कभी भी मुझे आर्थिक रूप से दबाव नहीं डाला, जिसके वजह से मैं आगे बढ़ता गया.

  तो सर, हम यह मान लें की फूड के फिल्ड में काम करने के कारण आपकी बॉडी इतनी स्ट्रांग है.

प्रभाकर- नहीं, ऐसा नहीं है क्योंकि यह काम तो मैं काफी बाद में र्स्टाट किया हूं. पहले तो इवेंट और दुसरे काम किया लेकिन जबरजस्त घाटा लगा. लेकिन मैं कभी अपने हेल्थ को गिरने ना दिया क्योंकी मेरे एक्टर बनने के सुनहले सपने को साकार करने के लिए खुद को सहेज कर रखा है. मुझे तो लाखों का घाटा लगा पर इस सपना ने मुझे हिम्मत दिया है.

फिर आप कितना वक्त जीम में देते हैं?

प्रभाकर- मैं कम से कम 90 मिनट जीम में मेहनत करता हूं. आजकल तो शर्ट फाड़कर बॉडी दिखाने का फैशन बन गया है तो फिर मैं कैसे खुद को अलग कर सकता हूं. एक बार तो मेरा पेट निकल गया, लगा की बोझ लद गया है, फिर मैं और ज्यादा मेहनत करने लगा. आज युवा दिवस पर युवाओं  को कहना चाहता हूं कि कम से कम 30मिनट तो अवश्य जीम में व्यतीत करें. अपने सपना को पाने के लिए जी-जान से मेहनत करें, चाहे वह सपना प्यार का हो या करियर का.

सर, आप मूल रूप से बिहारी हो तो आपको नहीं लगता कि इसमें बिहार टॉनिक लिट्टी-चोखा और सतुआ का योगदान है.

प्रभाकर-  हा,हा,हा… मैं तो मानता  हूं कि इस बॉडी के बनावट में तो बिहार के खान-पान का कमाल है ही, मैं  तो बस इसको निखारने का काम किया हूं. लिट्टी-चोखा और सतुआ के कारण तो मेरा बॉडी बचपन से ही स्ट्रांग रहा है. और वह मनोज तिवारी जी का गाना हैं ‘इंटरनेशनल लिट्टी-चोखा, जे खइलस ना पइल्स धोखा, यूपी चाहें बिहार में, गाड़ के झंडा आइये जाला, जहा जाला संसार में’ उसका भी योगदान है.

क्या बात है सर, आपको अपनी मिट्टी से आज भी इतना लगाव है तो फिर बिहारी फैन है कोई आपका?

प्रभाकर- जी, बिल्कुल मुझे मेरी मिट्टी से पहले से ज्यादा अब प्यार हो गया है. पता नहीं बिहार में मेरा कोई फैन हैं की नहीं पर मैं तो लालू-नीतीश जी का बहुत बड़ा फैन हूं. हमत लालू जी के बहुत मन से सुनेनी. आ. नीतीश जी के विकास देख के मन में अलख जागे ला.

अरे, वाह आप तो भोजपुरी बोल लेते हैं.

प्रभाकर-  इसमें हैरानी की क्या बात है. हां मैं तो बोल लेता हूं. घर पर भोजपुरी में ही बात करता हूं. साथ ही हिंदी से भी बहुत लगाव है.

सर, हिंदी से याद आया कि आपको तो हिंदी फिल्म में जगह नहीं मिली तो फिर आपको बॉलीवुड से थोड़ी-सी नफरत नहीं होती?

प्रभाकर-  थोड़ा-सा भी नहीं, क्योंकि आज उनके कारण ही मैं इस मुकाम पर हूं तो इसलिए मैं पूरे  बॉलीवुड को धन्यवाद देना चाहता हूं. अमिताभ बच्चन, आमिर खान, रितिक रौशन और शाहरूख खान का मैं बहुत बड़ा फैन हूं. नफरत क्या करना है, यह भी तो हो सकता है कि मैं उस वक्त काबिल नहीं था. हर इंसान को मेहनत कर के अपने सपना को जीना चाहिए, कामयाबी जरूर मिलेगी. नफरत करने से तो बस नकारात्म परिणाम ही मिलेंगे.

सर बहुत-बहुत धन्यवाद. बहुत अच्छा लगा यह जानकर की 1997 से कोस्टारिका (अमेरिका) में रहने के बावजूद, आज भी आपको अपनी मिट्टी-वतन से इतना लगाव और प्यार है. आप अमेरिकन बन गए पर दिल वही हिंदुस्तानी है. किसी की नजर ना लगे आपके बॉडी को आप यूं ही आगे बढते रहें. आपके आने वाली फिल्म- इनरेदादोस:ला कंफ्यूजन (स्पैनिश नाम), जो कि फरवरी,2017 में रिलीज होने वाली है. शब्दार्थ ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएं.

Advertisements

One thought on “अमेरिकन फिल्म जगत में स्टार है बिहार का ‘विवेक’

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s