छत्तीसगढ़ की घटना पर क्यों आँखें बंद कर लेते हैं?

‘’दिल्ली आउ बाम्बे मा होवइया दुस्करम के चरचा आउ ओखर आक्रोस पूरा भारत मा होथे फेर छत्तीसगढ़ के घटना मा जमोकोनो आंखी काबर मूंद लेथे?’’ (दिल्ली और मुम्बई में होने वाले दुष्कर्म की चर्चा और आक्रोश पुरे भारत में होता है लेकिन छत्तीसगढ़ की घटना पर सभी क्यों आंख बंद कर लेते हैं?)

एक सवाल के रूप में ये संदेश छत्तीसगढ़ के एक ग्रामीण ने व्हाट्सअप के ज़रिए मुझको प्रेषित किया।शब्दों में व्याप्त पीड़ा शायद दिल्ली के लिए एक आईना हो सकती है,मीडिया के लिए टीआरपी वर्धक ना होने की वज़ह से अनुपयोगी हो सकती है। लेकिन एक बेहतर समाज के लिए यह अंसतोष का दर्द काफी चिंताजनक है।

समाज में बढ़ रही बलात्कार की घटनाएं एक चुनौती तो है ही लेकिन इन घटनाओं का हम तक अलग-अलग अंदाज में हम तक पहुंचना और कुछ घटनाओं का ना पहुंचना या अनदेखी किया जाना भी कम पीड़ादायक नहीं है।

आज के युग में किसी भी मुद्दे का फैलाव एक बड़े स्तर पर तभी हो पाता है जब मीडिया के ज़रिए वह जनमानस तक पहुँचता है। मीडिया के द्वारा उन ख़बरों को दिए गए स्पेस से और प्रस्तुतीकरण के तरीकों से समाज पर उसका व्यापक असर देखा जा सकता है। परिणामस्वरूप दिल्ली में हुए निर्भया काण्ड पर समूचा भारत एक सुर में सुर मिलाकर आंदोलित नज़र आया,बलात्कार के विरोध में यह ऐतिहासिक घटना साबित हुई। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि जब निर्यभा काण्ड से उपजे आक्रोश का विस्तार पूरे भारत में हो रहा था तब छत्तीसगढ़ के एक गाँव में भी कुछ दरिंदो ने एक मासूम का  बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी थी उस मासूम को ‘निर्भया’ नाम नहीं मिला, यह नाम तो दूर कथित राष्ट्रीय मीडिया ने उस घटना पर अपना एक मीनट भी नष्ट नहीं किया,जबकि दिल्ली,मुम्बई और अन्य महानगरों के आस-पास की ख़बरों को बराबर तरज़ीह दी जा रही थी।

मीडिया चैनलों के द्वारा दिल्ली को बलात्कार की राजधानी बताई जा रही थी ,लेकिन ‘राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड्स ब्युरो’ के आंकड़ो के अनुसार उस समय सबसे अधिक बलात्कार छत्तीसगढ़ के दुर्ग-भिलाई के इलाकों में हुए थे। 2011  में दिल्ली में प्रति एक लाख की आबादी में 2.8 बलात्कार हुए जबकि दुर्ग-भिलाई में ये औसत 5.7 का दर्ज था। लेकिन मीडिया की नज़र में छत्तीसगढ़ में बढ़ रहे बलात्कार के मामलों का कोई राष्ट्रीय महत्व नहीं था, जिसकी चिंता की जाए तथा पुरे देश को इससे रूबरु कराई जाए, जिससे इन घटनाओं के खिलाफ़ जनमत बन सके, शायद तब ‘दुर्ग’ का ‘दिल्ली’ ना होना मीडिया के लिए अहम रहा हो।

अभी कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले की अदालत ने तीन वर्ष की बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या  के जुर्म में एक युवक को फांसी की सज़ा सुनाई है।अगर मीडिया चाहता तो इस घटना का कवरेज कर इसे देश के समक्ष रख सकता था ताकि इस दरिंदगी के विरुद्ध  भी देश आक्रोशित हो और इसकी भर्त्सना करे। जिससे ऐसे  मामलों की पुनरावृत्ति ना होने पाए।

कुछ और भी उदाहरण है जिसमें मीडिया ने महानगरों के मुकाबले गैर महानगरीय संवेदनशील मामलों की बराबर अनदेखी की। 2 अगस्त 2012 को  चलती ट्रेन में सात साल की बच्ची से बलात्कार के बाद बिलासपुर रेल्वे स्टेशन के पास फेंक दिया गया।7 जनवरी 2013 में बस्तर के कांकेर में एक बलात्कार का मामला सामने आया जिसमें आदिवासी छात्रावास में रहने वाले 11 बच्चियों के साथ दुष्कर्म किया गया ।दिसम्बर 2015 में सामुहिक दुष्कर्म के बाद एक महिला को ज़िदा जला दिया गया।12 जून 2016 को दंतेवाड़ा जिले में एक पुलिस कांस्टेबल पर 13 साल की एक बच्ची से रेप करने का आरोप लगा। लेकिन राष्ट्रीय मीडिया को इन सबकी परवाह नहीं रही।

मीडिया के इस दोहरे चरित्र को लेकर आज बहुत सारे लोग आक्रोशित हैं इस दुख के मूल में 23 मई को हुए सारंगगढ़ क्षेत्र की दर्दनाक घटना है जिसमें 15 वर्ष की एक मासूस के साथ पाँच युवकों ने दुष्कर्म किया। इस घटना से व्यथित युवती ने कीटनाशक का सेवन कर लिया,घर वालों को पता चलने पर उसे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया,जहां से हालत बिगड़ने पर युवती को रायपुर के मेकाहारा में रिफर कर दिया गया, फिर सरकारी अस्पताल में स्वास्थ्य बिगड़ता देख परिजनों ने उसे निजी अस्पताल ले गए जहां पीड़िता को आईसीयू में रखा गया फिर निजी अस्पताल प्रबंधन ने उनके परिजनों को एक लाख का बिल थमा दिया गया। इतने रकम की व्यवस्था कर पाना  मजदूरी करने वाले माता पिता के लिए नामूमकिन था। परिजनों का  आरोप है कि इसी वजह से  गंम्भीर हालत में भी युवती को आईसीयू से बाहर निकाल दिया गया।फिर समाज के कुछ लोगों के हो हल्ला किए जाने पर दुबारा आईसीयू में ले जाया गया लेकिन जल्द ही युवती ने दम तोड़ दिया। अस्पताल प्रबंधन ने शव को बंधक बनाए रखा ताकि परिजन बकाया बिल देने के लिए राजी हो जाए,लेकिन मज़दूर माँ बाप के पास बिलखने के अलावा कोई चारा नहीं था। किसी तरह युवती की पार्थिव देह तो गरीब माता पिता के हवाले कर दिया गया लेकिन बलात्कार,मौत और फिर व्यवस्था के द्वारा किए गए बलात्कार से छत्तीसगढ़ दहलता रहा। लेकिन क्या इस दर्द का विस्तार देश भर में हुआ? क्या व्यवस्था की नाकामी और गरीबी की वज़ह से पीड़िता ने मरने के बाद भी जो तकलिफ सही इससे भारत का बड़ा हिस्सा प्रभावित हो पाया? कितने लोगों के भीतर आक्रोश पैदा हुआ? या कितने लोगों को इस घटना की जानकारी मिली? इन सवालों पर हम सब निरूत्तर हैं, क्योकि सूचना और संचार का ताकतवर ज़रिया मीडिया के लिए यहां की घटना गौंण है।

छत्तीसगढ़ के महेश मलंग इस मामले पर कहते हैं कि दिल्ली और छत्तीसगढ़ की निर्भया मामले में अंतर होने की वज़ह  दूरी नहीं बल्कि मीडिया की सतही नज़रिया है, उसका चश्मा है, जिसमें वह देखता है कि ये बिकाऊ है या नहीं टीआरपी बँटोरू है कि नहीं उसमें कुछ मसाला है या नहीं,इसलिए जैसा कवरेज दिल्ली की निर्भया का हुआ वैसा छत्तीसगढ़ की निर्भया का हो ये संभव नहीं है।

Advertisements

3 thoughts on “छत्तीसगढ़ की घटना पर क्यों आँखें बंद कर लेते हैं?

  1. अच्छा लिखा है अक्षय,ऐसे ज्वलंत मुद्दे उठाना हिम्मत और साहस का काम है ।साधुवाद !

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s